Dhaakad : कंगना रनौत खुद को नहीं मानती ‘अंडरपेड’ एक्ट्रेस, बोलीं – पुरुषों ने मेरी मदद की

0
127
Dhaakad : कंगना रनौत खुद को नहीं मानती 'अंडरपेड' एक्ट्रेस, बोलीं - पुरुषों ने मेरी मदद की
Dhaakad : कंगना रनौत खुद को नहीं मानती 'अंडरपेड' एक्ट्रेस, बोलीं - पुरुषों ने मेरी मदद की

एक्ट्रेस कंगना रनौत हमेशा से बॉलीवुड में एक्टर्स और एक्ट्रेस की वेतन में असामनता के विरोध में खुलकर बोली हैं उन्होंन कई बार कहा है कि वो हमेशा सोचती थीं कि क्यों उन्हें अपने मेल को-स्टार्स जितने पैसे नहीं दिए जाता है लेकिन कई बार सकारात्म क बदलाव होते हैं और ये खुशी और संतुष्टि देते हैं. कंगना रनौत ने भी सुनिश्चित कर लिया है कि अब वो भी अंडरपेड नहीं हैं. कंगना रनौत ने हाल ही में यह बात खुद कही है बता दें कि कंगना रनौत अगली फिल्म ‘धाकड़’ में एक्शन अवतार में नजर आएंगी रजनीश घई के निर्देशन में बनी इस फिल्म में अर्जुन रामपाल, दिव्या दत्ता भी लीड रोल में हैं यह फिल्म 20 मई को सिनेमाघरों में रिलीज हो रही है।

सफर को पूरा करने में पुरुषों ने मेरी मदद की

इसे प्रोड्यूस सोहम रॉकस्टार इंटरटेनमेंट और कमल मुकुट ने मिलकर किया है एक इंटरव्यू में कंगना रनौत ने बॉलीवुड में वेतन में भेदभाव से जुड़े एक सवाल का जवाब दिया. कंगना रनौत ने कहा, ‘मैं जानती हूं कि अब मैं अंडरपेड नहीं हूं. इससे मुझे महसूस होता है कि इस सफर को पूरा करने में पुरुषों ने मेरी मदद की है. पहले कई बार मैं सोचती थी कि मुझे क्यों हीरो के जितने पैसे नहीं दिए जाते हैं।

कंगना रनौत ने इस इंटरव्यू में अपने करियर के उतार-चढ़ाव के बारे में भी बात की

लेकिन अब खुशी-खुशी मैं यह कह सकती हूं कि मैं अंडरपेड नहीं हूं.’ साथ ही कंगना रनौत ने ये भी कहा कि रेखा और हेमा मालिनी जैसे एक्ट्रेसेस ने फीमेल एक्टर्स के लिए रास्ता बनाया जिसे आज सभी एंज्वॉय करती हैं. कंगना रनौत ने इस इंटरव्यू में अपने करियर के उतार-चढ़ाव के बारे में भी बात की. उन्होंने कहा, ‘मैंने खुद कई पुरुष केंद्रित फिल्मों को मना किया है. आप जानते हैं खान लीडिंग फिल्में, कुमार लीडिंग फिल्म्स सभी बड़े हीरो की फिल्में होती है. मेरे दिमाग में हमेशा ऐसा था कि यह पॉसिबल है।

रजनीश घई या दीपक मुकुट जैसे प्रोड्यूसर्स की जरुरत

मैंने इसे प्लान नहीं किया था लेकिन ये मेरा विजन था. कंगना ने आगे कहा, ‘ये सच है कि इसे मैं अकेले नहीं एक्जिक्यूट कर सकती हूं. आपको रजनीश घई या दीपक मुकुट जैसे प्रोड्यूसर्स की जरुरत पड़ेगी. मैं कहना चाहूंगी कि अगर कोई महिला सफल होती है तो उसमें कई पुरुषों का सपोर्ट भी शामिल होता है. यह कई चीजों का कॉम्बिनेशन है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here