जमीयत उलेमा का फरमान, जुमा की नमाज बाद कोई प्रदर्शन न करें

0
148
जमीयत उलेमा का फरमान, जुमा की नमाज बाद कोई प्रदर्शन न करें
जमीयत उलेमा का फरमान, जुमा की नमाज बाद कोई प्रदर्शन न करें

 

जमीयत उलमा की मेरठ रोड स्थित मस्जिद में बैठक हुई। इस बैठक में जुमा की नमाज के बाद हल ही के दिनों की स्थिति में किसी भी तरह के प्रदर्शन न करने का फरमान सुनाया गया। इसके साथ ही जमीयत ने बेकसूर लोगों पर की जा रही कार्रवाई का भी विरोध किया गया। जमीयत उलेमा के पदाधिकारियों ने कहा कि भाजपा से निष्काषित नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल को जल्द गिरफ्तार किया जाए और बेकसूरों को जमानत दिया जाए। जुमा की नमाज मस्जिदों में अदा करें और कोई भी किसी भी तरह की अफवाहों पर ध्यान न दें।

मुस्लिम समुदाय को झेलनी पड़ती है बदनामी

जुमा की नमाज के बाद किसी भी तरह का कोई प्रदर्शन न करें। जमीयत ने कहा कि जुमा के प्रदर्शन से सांप्रदायिक शक्तियों को प्रदेश का माहौल खराब का अवसर मिल जाता है जिससे मुस्लिम समुदाय को बदनामी झेलनी पड़ती है। मौलाना नज़र मुहम्मद क़ासमी ने कहा की जमीयत उलमा-ए-हिंद भारत सरकार से मांग करती है की गुस्ताख रसूल को गिरफ्तार कर सख्त से सख्त सजा दी जाए। ऐसे असामजिक तत्वों की वजह से माहौल खराब होता है।

धर्म के पेशवाओं को बुरा-भला कहने का हक किसी को नहीं

किसी के भी धर्म के पेशवाओं को बुरा-भला कहने का हक किसी को नहीं है, जो ऐसा करते हैं वो समाज और इंसानियत तथा देश के दुश्मन हैं। बैठक का संचालन जिला महासचिव मौलाना मुकर्रम अली कासमी ने किया। फक्करशाह मस्जिद के इमाम मौलाना खालिद ज़ाहिद ने दुआ कराई। इस दौरान हाजी शाहिद त्यागी, मौलाना कासिम कासमी, हकीम उम्मेद अली, हाजी अजीजुर्रहमान, सलीम मलिक, इकराम कस्सार मुफ़्ती, इंतजार मुफ़्ती अब्दुल व कादिर क़ासमी आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here