अमेरिका और यूरोपीय देशों ने यूक्रेन से वापस बुलाए नागरिक

0
83
अमेरिका और यूरोपीय देशों ने यूक्रेन से वापस बुलाए नागरिक
अमेरिका और यूरोपीय देशों ने यूक्रेन से वापस बुलाए नागरिक

अमेरिका और यूरोपीय देशों ने यूक्रेन से वापस बुलाए नागरिक

काले सागर में बड़े पैमाने पर युद्धाभ्यास, अमेरिका के साथ तमाम यूरोपीय देशों की नागरिकों को यूक्रेन छोड़ने की सलाह और यूक्रेन के रूसी दूतावास में फेरबदल के बीच हमले की चेतावनी को रूस ने अमेरिका की “मिर्गी” करार दिया है.रूस ने यूक्रेन में मौजूद अपने राजनयिक अधिकारियों की मौजूदगी “अनुकूल” बनाने की बात कही है.

रूस की नौसेना ने बड़े पैमाने पर काले सागर में युद्धाभ्यास शुरू कर दिया

यूक्रेन और रूस के बीच चल रहे तनाव को देखते हुए इसका अंदाजा स्टाफ की संख्या में कमी से लगाया जा रहा है. हालांकि रूसी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया जाखारोवा ने साफ तौर पर इस बारे में कुछ नही कहा. जाखारोवा ने बताया है कि दूतावास और वाणिज्य दूतावास अपने प्रमुख काम करते रहेंगे. रूसी प्रवक्ता का कहना है कि यूक्रेन और दूसरे पक्षों की तरफ से “उकसावे” को देखते हुए कर्मचारियों की सुरक्षा के मद्देनजर यह कदम उठाया गया है. इससे पहले शनिवार की सुबह रूस की नौसेना ने बड़े पैमाने पर काले सागर में युद्धाभ्यास शुरू कर दिया.

देश के आर्थिक क्षेत्र की संभावित सैन्य खतरों से सुरक्षा है.

रूस के रक्षा मंत्रालय ने शनिवार सुबह कहा, “काले सागर में मौजूद हमारी फ्लीट से 30 जहाज सेबास्टोपोल और नोवोरोसिस्क सागर में पहले से तय अभ्यास के लिए गए हैं. इस अभ्यास का मकसद क्राइमिया प्रायद्वीप के तटों के साथ ही ब्लैक सी फ्लीट के सैनिक अड्डों और देश के आर्थिक क्षेत्र की संभावित सैन्य खतरों से सुरक्षा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here