गुजरात में सोगुजरात में सोशल मीडिया में पोस्ट लिखने पर युवक की हत्या, ATS ने दो आरोपी मौलानाओं को किया गिरफ्तार

0
73

गुजरात एटीएस ने किशन भारवाड़ हत्याकांड में गिरफ्तार दो मौलानाओं के खिलाफ बुधवार को कठोर कानूनी कार्रवाई की। सोशल मीडिया में मुस्लिमों के खिलाफ कथित तौर पर पोस्ट लिखने पर भारवाड़ की अहमदाबाद में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। मौलाना अयूब और मौलाना कमरगनी उस्मानी के खिलाफ गुजरात आतंकवाद रोधी कानून, गुजरात संगठित अपराध कानून और गैर कानूनी गतिविधि निवारक कानून जैसे कठोर कानूनों की धाराएं भी लगा दी हैं। इससे अब इनकी जल्द रिहाई नहीं हो सकेगी। गुजरात एटीएस ने आरोपियों के खिलाफ गुजरात आतंकवाद और संगठित अपराध नियंत्रण कानून की धारा 3(1)(1) और यूएपीए कानून की धारा 3(2) भी जोड़ दी है। एटीएस ने अपने बयान में कहा कि मौलाना अयूब जावरावाला के अहमदाबाद के जमालपुर इलाके में स्थित घर की तलाशी के दौरान एक शस्त्र व मौलाना अयूब द्वारा लिखी गई धार्मिक किताबें मिलीं। पुलिस ने मौलाना अयूब को तब गिरफ्तार किया जब यह खुलासा हुआ कि अयूब जावरावाला ने भारवाड़ को मारने के लिए हथियार का इंतजाम किया था। इसके साथ ही दिल्ली के मौलाना कमरगनी उस्मानी को भी गिरफ्तार किया गया था। गुजरात एटीएस का कहना है कि यूएपीए को आतंकवाद से संबंधित मामलों में लागू किया जाना चाहिए। इसमें मामले की जांच होने तक आरोपी को अग्रिम जमानत या जमानत मिलने की संभावना नहीं रहती है।

गुजरात (Gujarat) में इंस्टाग्राम ‘स्टोरीज’ और वाट्सऐप के एक ग्रुप पर इस बारे में चर्चा के कारण गुजरात के राजकोट (Rajkot) शहर में दो समूहों के लोगों के बीच झड़प हो गई, जिसके बाद मामला दर्ज किया गया. भक्तिनगर थाने के एक अधिकारी ने बताया कि दोनों समूहों के सदस्य बृहस्पतिवार की रात एक पूर्व-निर्धारित स्थान पर इस मुद्दे को सुलझाने के लिए एकत्र हुए थे, लेकिन मामला बिगड़ गया और इस दौरान एक व्यक्ति की मोटरसाइकिल क्षतिग्रस्त कर दी गई.

किशन भारवाड़मृतक के चचेरे भाई का दावा है कि, ‘अन्य धर्मों’ के कुछ लोग किशन के सोशल मीडिया पोस्ट से दुखी थे. उन्होंने पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई. उन्होंने कहा कि मृतक को पुलिस कार्रवाई का भी सामना करना पड़ा और उसने पोस्ट के लिए माफ़ी मांगी.बीबीसी गुजराती ने पूरे मामले की जानकारी के लिए घटना में शामिल लोगों और अधिकारियों से संपर्क किया. मृतक के माता-पिता का क्या कहना है?बीबीसी गुजराती से मृतक युवक के पिता शिवभाई भारवाड़ ने कहा, “सोशल मीडिया पर चल रही अफ़वाहों के मुताबिक, मेरे बेटे को मारने वाले लोग सोशल मीडिया पर उसके पोस्ट से परेशान थे. उसे बार-बार धमकियां भी मिल रही थीं. 25 को उसकी हत्या भी हो गई.

लेकिन मेरे बेटे को मुसलमानों ने उपरोक्त पोस्ट पर नाराजगी के कारण मार डाला.”स्थानीय मीडिया से बात करते हुए किशन भारवाड़ की मां ने कहा, ”मेरे बेटे को पहले तो बुरी तरीके से पीटा गया. पहले उसने इसके लिए माफ़ी मांगी.

इमेज स्रोत,Sachin Pithhvaइमेज कैप्शन,गुजरात के गृह मंत्री हर्ष सांघवी मृतक की प्रार्थना सभा में शामिल हुएमामले के जांच अधिकारी विशेष जांच समूह पुलिस निरीक्षक बी. बी. वाला ने इस मामले की जांच के बारे में बताया, “अहमदाबाद के जमालपुर के मौलाना अयूब को जिसने शब्बीर को कारतूस और बंदूकें मुहैया कराईं और उसे उकसाया, को भी हमलोगों गिरफ़्तार कर लिया गया है.

शब्बीर के हाथ में बंदूक थी जबकि इम्तियाज़ बाइक चला रहा था. पूछताछ से पता चला है कि गिरफ़्तार किए गए दो आरोपियों में से शब्बीर एक धार्मिक कट्टरपंथी है और उसने दूसरों के प्रभाव में ऐसा किया है.” मुस्लिम महिलाओं की तस्वीर ऐप पर अपलोड करने की जाँच करेगी पुलिसपुलिस के दावे के मुताबिक अयूब ने शब्बीर को धार्मिक भावनाओं के संबंध में कोई माफ़ी स्वीकार नहीं करने के लिए कहा था. पूरी घटना में मुंबई के एक मौलवी की संलिप्तता के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि व्यक्ति के बारे में अभी खुलासा नहीं किया गया है.

बताया जा रहा है कि विवादास्पद पोस्ट में पैगंबर मोहम्मद को लेकर कोई आपत्तिजनक बातें कहीं गई थीं, जिसमें पुलिस में मामला दर्ज होने के बाद किशन ने माफ़ी मांग थी. विश्व हिंदू परिषद के प्रवक्ता हितेंद्र सिंह राजपूत ने बीबीसी गुजराती से बातचीत में किशन की हत्या को ‘मुस्लिम समुदाय के अभियुक्तों द्वारा रची गई साजिश’ क़रार दिया.बीबीसी गुजराती के साथ बातचीत में किशन के पिता शिवभाई भारवाड़ ने भी कहा, “मुझे कुछ नहीं पता. मुझे बस इतना पता है कि मेरे बेटे को मुसलमानों ने मार डाला.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here